रोजगार एवं स्वरोजगार के अवसर

रोजगार आवेदन
निगम द्वारा ग्रामीण बेरोजगार युवाओं को विभिन्न क्षेत्रों जैसे विपणन, लघु पशुचिकित्सा, कौशल विकास प्रशिक्षण,पोल्ट्री फार्मिंग, बकरी फार्मिंग, डेयरी फार्मिंग आदि क्षेत्रों में रोजगार प्रदान किया जाता है |
निगम द्वारा रोजगारोन्मुखी व रोजगार परक योजनाओं जैसे :- "एक ग्राम एक प्रशिक्षण एक रोजगार", "स्वस्थ पशु सुरक्षित पशुपालक" एकीकृत कृषि, डेयरी, ऊर्जा व भूमि विकास कार्यक्रम आदि योजनाओं का संचालन किया जाता है |
निगम में रोजगार के लिए चयन का आधार :- निगम की रोजगारोन्मुखी योजनाओं के संचालन क्रियान्वन व प्रशासनिक कार्यो हेतु सक्षम आवेदकों/ उम्मीदवारो (शैक्षणिक, मानसिक, अनुशासित, अच्छा परिणाम देने वाले व प्रभावी व्यक्तित्व वाले कर्म व मेहनती) की आवश्यकता होती है |
निगम में चयन प्रक्रिया निम्न प्रकार से पूर्ण पारदर्शिता के साथ पूरी की जाती है:-
1. प्रिंट मीडिया निगम की आधिकारिक वेबसाइट के माध्यम से विज्ञापन प्रकाशित कर सक्षम उम्मीदवारो से ऑनलाइन/ ऑफलाइन आवेदन आमंत्रित करना |
2. आवेदन पत्र की प्राप्ति के पश्चात् आवेदन पत्र की जाँच/ छँटनी करना व जिला/राज्य कर सूची तैयार करना |
3. पद के समक्ष योग्य आवेदको को लिखित परीक्षा (Apptitude Test) / साक्षात्कार की सूचना रजिस्टर्ड ईमेल पर/ डाक के माध्यम से भेजना व निर्धारित समय पर लिखित परीक्षा / साक्षात्कार का आयोजन ऑनलाइन / ऑफलाइन माध्यम से करना |
4. परीक्षा / साक्षात्कार में सफल रहे आवेदकों को पदानुसार कार्यशैली, रिपोर्टिंग में व अन्य आवश्यक जानकारी के लिए एक विकसित प्रशिक्षण प्रदान करना व नियुक्ति प्रदान करना |
विशेष :-
 निगम द्वारा सभी चयनित कर्मचारियो का निःशुल्क एक लाख रूपये का दुर्घटना बीमा जारी किया जाता है |
 नियुक्ति से पूर्व कर्मचारी व निगम के मध्य कार्य के संबंध में घोषणा पत्र निर्धारित मूल्य के स्टाम्प पेपर पर निष्पादित कर नोटेरी किया जाता है |
 नियुक्ति से पूर्व एक दिवसीय प्रशिक्षण का आयोजन जयपुर / लखनऊ में आयोजित किया जाता है |
 प्रशिक्षण में होने वाला व्यय (यात्रा भत्ता के अलावा) निगम द्वारा वहन किया जाता है |
विभाग के अनुसार रोजगार के अवसर :-
1. प्रशिक्षण :- निगम द्वारा पंचायत स्तर पर पशु सेवा केंद्र / पशुपालक केन्द्रों के संचालन हेतु रोजगार पूर्ण प्रशिक्षण हेतु आवेदन आमंत्रित किये जाते है |

प्रशिक्षण का नाम व अवधि

क्र.स. प्रशिक्षण / पद का नाम अवधि
1 पशु स्वास्थ्य कार्यकर्त्ता 6 माह
2 वेटरनरी फील्ड असिस्टेंट 1 वर्षीय
3 पैरावेट सह कृत्रिम गर्भाधान 69 दिन
4 पोल्ट्री फार्मिंग (कुक्कुट पालन) 10 दिन
5 बकरी फार्मिंग (बकरी पालन) 10 दिन
6 डेयरी फार्मिंग व चारा प्रबंधक 12 दिन

प्रशिक्षण में सफल रहे आवेदकों को निगम द्वारा रोजगार प्रदान किया जाता है पद के लक्ष्यानुसार कार्य करने पर निगम द्वारा वेतन व अन्य लाभ दिए जाते है | प्रशिक्षण पश्चात् सफल आवेदक स्वरोजगार का पात्र भी होता है|

2. विपणन :- निगम के उत्पाद व उनसे जुडी योजनाओं का लाभ सीधे पशुपालकों व किसानों तक पहुंचाने के लिये निगम द्वारा निम्न पदों पर रोजगार दिया जाता है व लक्ष्यानुसार कार्य करने पर वेतन व अन्य लाभ दिए जाते है | विपणन विभाग के पदानुसार कार्यो एवं लक्ष्यों का विवरण निम्नलिखित है |
विक्रय प्रबंधक :- निगम द्वारा विपणन क्षेत्र में जिला स्तर पर विक्रय प्रबंधक नियुक्त किये जाते है जिनके समक्ष सभी तहसीलों एवं पंचायतों की अधिकारी कर्मचारी के कार्यो की सम्पूर्ण जिम्मेदारियां होती है | विक्रय प्रबंधक राज्य स्तर के अधिकारी को अपनी मासिक रिपोर्ट भेजता है सभी स्तर पर कर्मचारी अधिकारी निगम की योजनाओं का प्रचार-प्रसार एवं विपणन क्षेत्र का कार्य करता है |
विक्रय विकास अधिकारी :- निगम द्वारा विपणन क्षेत्र में तहसील स्तर पर विक्रय विकास अधिकारी नियुक्त किये जाते है | जिनके समक्ष सभी पंचायतों के कर्मचारीयों के कार्यो की सम्पूर्ण जिम्मेदारियां होती है | विक्रय विकास अधिकारी जिले स्तर के अधिकारी को अपनी मासिक रिपोर्ट भेजता है जहाँ तहसील एवं पंचायत स्तर पर निगम की योजनाओं व विपणन क्षेत्र का कार्य करता है
विक्रय सहायक :- निगम द्वारा विपणन क्षेत्र में पंचायत स्तर पर विक्रय सहायक नियुक्त किये जाते है वह अपनी ग्राम पंचायत पर निगम की योजनाओं को प्रसारित करता है एवं विपणन क्षेत्र में कार्य करता है तथा अपनी मासिक रिपोर्ट विक्रय विकास अधिकारी को भेजता है |
विपणन प्रबंधक :- विपणन क्षेत्र की " स्वस्थ पशु सुरक्षित पशुपालक योजना" का प्रचार-प्रसार कर निगम के कार्य दायित्व जिला स्तर पर पूरे करना है साथ ही पशुपालकों को निःशुल्क दुर्घटना बीमा का लाभ दिलाना है |
विपणन सहायक :- विपणन क्षेत्र में निगम की योजना को प्रचार-प्रसार पंचायत स्तर पर करना निम्न दायित्व है और पशुपालकों को निःशुल्क दुर्घटना बीमा का लाभ दिलाना है |
पशुसेवक :- निगम द्वारा पंचायत स्तर पर पशुसेवक नियुक्त किये जाते है | पशुपालकों को पंचायत स्तर पर चौपालों, पंचायतों आदि पर "पशु सेवा केंद्र" के माध्यम से निगम की जानकारी उपलब्ध कराना |
मार्केटिंग एजेंट :- निगम द्वारा ब्लॉक लेवल पर मार्केटिंग एजेंट नियुक्त किये जाते है जो की निगम के उत्पादों का प्रचार-प्रसार "मेडिकल सेंटर" पर करता है साथ ही मेडिकल सेंटर से ऑर्डर लेने की जिम्मेदारी रहती है |

पशुपालन क्षेत्र में डेयरी विकास को बढ़ावा देने के लिए निगम द्वारा डेयरी विकास कार्यक्रम चलाये जाते है जिनके पदानुसार कार्यो एवं लक्ष्यों का विवरण निम्नलिखित है |
डेयरी विस्तार अधिकारी :- निगम द्वारा विपणन क्षेत्र में जिला स्तर पर डेयरी विस्तार अधिकारी नियुक्त किये जाते है जिनके समक्ष सभी तहसीलों एवं पंचायतों की अधिकारी कर्मचारी के कार्यो की सम्पूर्ण जिम्मेदारियां होती है | डेयरी विस्तार अधिकारी का कार्य प्रत्येक जिला स्तर पर निजी क्षेत्र की डेयरी स्थापना कर निगम के उत्पाद की लक्ष्यानुसार बिक्री करना | डेयरी विस्तार अधिकारी राज्य स्तर के अधिकारी को अपनी मासिक रिपोर्ट भेजता है सभी स्तर पर कर्मचारी अधिकारी निगम की योजनाओं का प्रचार-प्रसार एवं विपणन क्षेत्र का कार्य करता है |
डेयरी विकास अधिकारी :- निगम द्वारा विपणन क्षेत्र में तहसील स्तर पर डेयरी विकास अधिकारी नियुक्त किये जाते है | जिनके समक्ष सभी पंचायतों के कर्मचारीयों के कार्यो की सम्पूर्ण जिम्मेदारियां होती है| डेयरी विकास अधिकारी का कार्य प्रत्येक तहसील स्तर पर निजी क्षेत्र की डेयरी स्थापना कर निगम के उत्पाद की लक्ष्यानुसार बिक्री करना | डेयरी विकास अधिकारी जिले स्तर के अधिकारी को अपनी मासिक रिपोर्ट भेजता है जहाँ तहसील एवं पंचायत स्तर पर निगम की योजनाओं पर कार्य करता है |
डेयरी समन्वयक :- निगम द्वारा विपणन क्षेत्र में पंचायत स्तर पर डेयरी समन्वयक नियुक्त किये जाते है| वह अपनी ग्राम पंचायत पर निगम की योजनाओं को प्रसारित करता है एवं विपणन क्षेत्र में कार्य करता है| डेयरी समन्वयक का कार्य प्रत्येक तहसील स्तर पर निजी क्षेत्र की डेयरी स्थापना कर निगम के उत्पाद की लक्ष्यानुसार बिक्री करना | तथा अपनी मासिक रिपोर्ट डेयरी विकास अधिकारी को भेजता है और निगम की "स्वस्थ पशु सुरक्षित पशुपालक योजना" का प्रचार-प्रसार करता है |
सर्वे प्रभारी :- निगम द्वारा विपणन क्षेत्र में जिला स्तर पर सर्वे प्रभारी नियुक्त किये जाते है जिनके समक्ष सभी तहसीलों एवं पंचायतों की अधिकारी कर्मचारी के कार्यो की सम्पूर्ण जिम्मेदारियां होती है | सर्वे प्रभारी का कार्य तहसील एवं पंचायत स्तर पर निगम की योजनाओं के आधार पर पशुपालक की सर्वे रिपोर्ट तैयार कर राज्य स्तर के अधिकारी को अपनी मासिक रिपोर्ट भेजना होता है |
सर्वेयर :- निगम द्वारा विपणन क्षेत्र में पंचायत स्तर पर सर्वेयर नियुक्त किये जाते है जो की पशुपालक के घर- घर जा कर सर्वे करता है जिसमे वह पशुपालकों को पशुओं में होने वाली मौसमी बीमारियों से बचने के लिये जागरूक करता है एवं निगम की योजनाओं के बारे में समझाता है एवं निगम के उत्पाद की लक्ष्यानुसार बिक्री करता है |

3. निगम द्वारा संचालित कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रमों को ग्राम स्तर पर प्रचारित करने, बेरोजगार युवाओं को प्रवेश दिलवाने हेतु व जिला स्तर पर प्रशिक्षण केंद्र स्थापित कर प्रशिक्षण कार्यक्रम के संचालन हेतु निम्न पदों पर रोजगार दिया जाता है व लक्ष्यानुसार कार्य करने पर वेतन व अन्य लाभ दिए जाते है | पशुपालन क्षेत्र में कौशल विकास को बढ़ावा देने के लिए निगम द्वारा कौशल विकास कार्यक्रम चलाये जाते है है जिनके पदानुसार कार्यो एवं लक्ष्यों का विवरण निम्नलिखित है |
कौशल केंद्र प्रभारी :- निगम द्वारा प्रशिक्षण क्षेत्र में जिला स्तर पर कौशल केंद्र प्रभारी नियुक्त किये जाते है | जिसका मुख्य कार्य जिला स्तर पर प्रशिक्षण केंद्र स्थापित करना होता है | केंद्र के संचालन की सम्पूर्ण जिम्मेदारियाँ वहन करना निगम में प्रशिक्षण योजनाओं पर ग्रामीण बेरोजगार युवाओ को प्रशिक्षण के लिए प्रोत्साहित करना |
कौशल विकास अधिकारी :- निगम द्वारा प्रशिक्षण क्षेत्र में तहसील स्तर पर कौशल विकास अधिकारी नियुक्त किये जाते है | जिसका कार्य प्रशिक्षण केंद्र पर कक्षा संचालन, अध्ययन, प्रशिक्षण आदि के संचालन की जिम्मेदारियाँ होती है | साथ ही निगम में प्रशिक्षण योजनाओं के द्वारा ग्रामीण बेरोजगार युवाओ को प्रशिक्षण के लिए तैयार करना |
कौशल प्रवेश सलाहाकार :- निगम द्वारा प्रशिक्षण क्षेत्र में पंचायत स्तर पर कौशल प्रवेश सलाहाकार नियुक्त किये जाते है | जिसका मुख्य कार्य जिला स्तर पर प्रशिक्षण केंद्र पर ग्रामीण बेरोजगार युवाओं को निगम की प्रशिक्षण योजनाओं की जानकारी देकर निगम में प्रवेश दिलवाना एवं छात्र की काउंसलिंग कर छात्र को रोजगार, स्वरोजगार के लिए प्रोत्साहित करना |
पशुपालक उन्नत्ति केंद्र संचालक :- निगम द्वारा प्रशिक्षण क्षेत्र में पंचायत स्तर पर पशुपालक उन्नत्ति केंद्र संचालक नियुक्त किये जाते है | जिसका कार्य प्रशिक्षण केंद्र पर कम्प्यूटर सम्बंधित कार्य, कार्यालय प्रबंधन देखना व सभी उच्च अधिकारियों के आदेशों की पालना करना |
प्रशिक्षण नियंत्रण अधिकारी :- निगम द्वारा प्रशिक्षण नियंत्रण अधिकारी पद पर नियुक्ति दी जाती है जहां जिले स्तर पर निगम के "आवासीय कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम" के तहत बेरोजगार ग्रामीण युवाओं को मुर्गी पालन, बकरी पालन, पोल्ट्री फार्मिंग, डेयरी फार्मिंग आदि के लिए प्रोत्साहित करना होता है साथ ही प्रशिक्षण स्थल की जिम्मेदारियां वहन करना होता है |
प्रशिक्षण प्रभारी :- निगम द्वारा प्रशिक्षण प्रभारी पद पर नियुक्ति दी जाती है जहां तहसील स्तर पर निगम के "आवासीय कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम" के तहत बेरोजगार ग्रामीण युवाओं को मुर्गी पालन, बकरी पालन, पोल्ट्री फार्मिंग, डेयरी फार्मिंग आदि के लिए प्रोत्साहित करना होता है |
प्रशिक्षण समन्वयक :- निगम द्वारा प्रशिक्षण समन्वयक पद पर नियुक्ति दी जाती है जहां पंचायत स्तर पर निगम के "आवासीय कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम" के तहत प्रशिक्षण केंद्र पर कक्षा संचालन, अध्ययन, प्रशिक्षण आदि के संचालन की जिम्मेदारियाँ होती है |
प्रशिक्षण सहायक :- निगम द्वारा प्रशिक्षण सहायक पद पर नियुक्ति दी जाती है जहां पंचायत स्तर पर निगम के "आवासीय कौशल विकास प्रशिक्षण कार्यक्रम" के तहत प्रशिक्षण केंद्र पर कम्प्यूटर सम्बंधित कार्य, कार्यालय प्रबंधन देखना व सभी उच्च अधिकारियों के आदेशों की पालना करना |

4. प्रशासनिक कार्य :- निगम के मुख्य कार्यालय, शाखाओं व प्रशिक्षण केंद्रों पर प्रशासनिक व प्रबंधन कार्य के लिए निगम द्वारा योग्य उम्मीदवारो से रोजगार पश्चात् नियुक्ति की जाती है नियुक्ति पूर्व कर्मचारी द्वारा कार्य के संबंध में घोषणा पत्र निर्धारित रूपये के स्टाम्प पेपर पर निष्पादित कर नोटेरी किया जाता है | निगम के सभी कर्मचारियों द्वारा सेवा नियम Code of Professional Conduct व Work Place Harassment Preventhen Policy की पालना की जाना अति आवश्यक है |