आवश्यक जानकारी

राष्ट्रीय स्तर पर पशुपालन को बढावा देने के लिए निर्धारित राज्यों में पशू सेवा केंद्र की स्थापना विक्रय केंद्र के रूप में की जाएगी , जहाँ निगम के एकेडमिक पार्टनर विवेकानंद ग्लोबल युनिवेर्सिटी द्वारा प्रशिक्षित प्रमाणपत्र धारी को ग्राम पंचायत स्तर पर पशु सेवा एवं कृत्रिम गर्भाधान केंद्र का संचालन सौंपा जायेगा जिसके द्वारा वे पशुपालको को निगम के उत्पादों का विक्रय करेंगे तथा पशुओ के स्वास्थ्य का रखरखाव एवं देखरेख करेंगे इन्ही केन्द्रों के जरिये कृत्रिम गर्भाधान एवं प्राथमिक पशु चिकित्सा सेवाये दी जायेगी ।

पशु सेवा केंद्र

ग्रामीण क्षेत्रो में पशुपालन करने वाले व्यक्ति की पशुपालन के जरिये आर्थिक उन्नति किये जाने के लिए स्थापित किये जाने वाले बहुउद्देशीय केंद्र है! यह केंद्र ग्राम पंचायत स्तर पर स्थापित किये जाने है! इन केन्द्रों को संचालित करने के लिए निम्न योग्यताएँ आवश्यक है!

योग्यता - १० वीं उत्तीर्ण

अन्य योग्यता-- ग्राम पंचायत क्षेत्र में 10x20 फिट तक का कमरा या दुकान उपलब्ध हो जिसके जरिये पशु सेवा केद्र का संचालन कर सके, लक्ष्य नुसार कार्य करने पर इस का किराया निगम वहन करेगा |

आवेदन का तरीका

निगम के द्वारा डॉ वर्गीस कुरियन स्मृति पशुधन विकास प्रशिक्षण केन्द्रो के जरिये पूर्ण विवरण तथा आवेदन पत्र उपलब्ध कराया जाता है उसमे उल्लेखित शर्तो के अनुसार आवेदन करें! अपूर्ण आवेदन पत्रों पर विचार नहीं किया जायेगा!

पशु सेवा केंद्र में निवेश

प्रशिक्षण के पश्चात निगम के नियमानुसार 10,000/- रुपये उत्पाद सामग्री हेतु राशी देय होगी जार,एल अन टू एवं सीमन के लिए शुल्क अतिरिक्त देय होगा |

मासिक वेतन

निगम की उत्पाद सामग्री के नियमानुसार लक्षित मासिक विक्रय, औसतन लक्षित 60 कृत्रिम गर्भाधान मासिक किये जाने पर एवं निगम के पंजिका धारक को प्राथमिक पशु चिकित्सा सेवाये मासिक दिए जाने पर पशुपालन कार्यकर्ता को 10000/- प्रतिमाह एवं पशु स्वास्थ्य कार्यकर्ता को 15000/- प्रतिमाह दिए जाने का प्रावधान है । अतिरिक्त लाभांश निगम के उत्पाद विक्रय मासिक लक्ष्य से अधिक आने पर आपको अतिरिक्त लाभांश 2% देय होता है! यदि आप की क्षमता इस निवेश से अधिक प्रति माह रहती है तो आप का लाभांश इसी अनुपात में बढेगा!

News & Event